Keyboard क्या है? keyboard की पूरी जानकारी – हिंदी में [2022]

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका इस ब्लॉग आर्टिकल में इस आर्टिकल में आप जानने वाले है की keyboard क्या है?

keyboard की पूरी जानकारी आज का युग कंप्यूटर का युग हो गया है आप कही भी जाओ स्कूल कॉलेज या हॉस्पिटल आपको हर जगह कंप्यूटर देखने को मिल जायेगा क्यों की कंप्यूटर के बिना काम करना असंभव सा हो गया है

अगर आप ने कंप्यूटर या लैपटॉप देखा होगा या उस पर काम किया होगा तो आप निश्चित ही Keyboard के नाम से परिचित होंगे।

यह हो सकता है की आप कीबोर्ड के बारे में थोड़ा बहुत जानते भी हों लेकिन आज के कंप्यूटर के इस युग में कीबोर्ड के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी होना बहुत महत्वपूर्ण हो गया है।

यह Computer का वह महत्पूर्ण भाग है जिसके बिना कंप्यूटर पर काम करना संभव नहीं है। यह एक प्रकर का input device है और उपयोगकर्ता के लिए computer के साथ संवाद करने का सबसे बुनियादी तरीका है। तो आज अच्छे से जानेगे इस keyboard के बारे में चलिए शुरू करते है.

keyboard क्या है?

keyboard क्या है?

कीबोर्ड कंप्यूटर का ही एक हिस्सा है यह कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग है। यह सर्वाधिक उपयोग में आने वाला input उपकरण हैयह सबसे ज्यादा उपयोग करने वाला Input Device है । कीबोर्ड मूल रूप से Typewriter के सामान ही काम करता है.

टाइपराइटर की अपेक्षा कीबोर्ड में बटन आसानी से दबते हैं जिससे लम्बे समय तक कार्य करने में सुविधा रहती है। कीबोर्ड के button में एक ख़ास बात यह भी होती है की एक बटन को लम्बे समय तक दबा के रखें तो वह खुद को दोहराता है।

कीबोर्ड की लगभग आधी keys अक्षर, संख्या या चिन्ह बनाती हैं। अन्य keys को दबाने पर क्रियाएं (actions) परफॉर्म होते हैं तथा कुछ क्रियायों को सम्पन्न करने के लिए एक से अधिक keys को एक साथ दबाया जाता है।

Keyboard कंप्यूटर से एक केबल द्वारा जुड़ा हुआ होता है। इसमें टाइपराइटर की अपेक्षा कुछ अतिरिक्त keys होती हैं। वर्तमान समय में 80 से 140 keys वाले keyboard बाजार में प्रचलन में हैं।

अब आप तो यह समझ गए की कीबोर्ड क्या है लेकिन अगर परीक्षा में आ जाये की कीबोर्ड क्या है? कीबोर्ड की परिभाष लिखे तो ऐसे में आप क्या लिखेंगे तो चिंता करने की जरूरत नहीं है आइये जान लेते है कीबोर्ड की परिभाषा (keyboard क्या है?)

keyboard के परिभाषा

Keyboard, Computer का वह उपकरण जिसकी सहायता से Computer में Text, Numbers और Symbols आदि को Input किया जाता है। Keyboard की सहायता से Computer में कोई अक्षर, शब्द, वाक्य, नंबर और कोई चिन्ह लिखा जाता है ।

इसे Input Device के अंतर्गत इसी लिए रखा जाता है। क्योंकि यह Computer में सिर्फ Input करने में काम आता है। इसकी सहायता से सिर्फ Input किया जा सकता है।

keyboard का फुल फॉर्म क्या होता है?

Keyboard फुल फॉर्म Keys Electronics Yet Board Operating A to Z Response Directly होता है।

K – Keys

E – Electronics

Y – Yet

B – Board

O – Operating

A – A to Z

R – Response

D – Directly

keyboard के क्या कार्य है?

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जो कंप्यूटर या अन्य डिवाइस पर डेटा Enter करने या Manipulate करने के लिए Keys नामक उंगली के आकार के बटन का उपयोग करता है. यह typewriter के सामान ही कार्य करता है,

इसके पास खुद का Processor और सर्किट होता है। सर्किट Keyboard के पूरे Keys से मिलकर एक जालीदार सर्किट बनाते हैं। जिसे Key Matrix कहते हैं। Key Matrix  मदद से User द्वारा दबाए गए Keys की जानकारी Keyboard के Processor तक पहुंचता है।

इसके लिए प्रत्येक Keys के नीचे के सर्किट को तोड़ दिया जाता है। जहाँ एक Switch भी लगा होता है। यह Switch Keyboard के Keys के दबने के कारण टूटे सर्किट को जोड़ देता है।

जब Keyboard के Keys को दबाया जाता है। तब सर्किट में हल्का सा विधुत का बहाव होता है। जिससे सर्किट में झनझनाहट (Vibration) उत्पन्न होता है।

इससे Keyboard के Processor को पूर्ण सर्किट का पता चलता है। तब Computer के ROM में Character Chart बनता है और Computer के Processor को बताता है कि Keyboard से कौन से Keys को दबाया गया है। ऐसे ही Keyboard काम करता है. (keyboard क्या है?)

Keyboard के प्रकार (Types of Key-board in Hindi)

कीबोर्ड के बारे में इतना जानने के बाद अब इसके प्रकार के बारे में जान लेते है तो Keyboard तीन प्रकार के होते है

Normal कीबोर्ड

Computer पर हम जो कीबोर्ड का इस्तेमाल करते है वो Normal keyboard ही होता है । इस Keyboard में लगभग 108 कुंजी होती है। इसे Computer से कनेक्ट करने के लिए Cable को सीपीयू में कनेक्ट करना होता है।

इस तरह के Keyboard को Wired Keyboard भी कहा जाता है। क्योंकि इसे Wire के द्वारा Computer से कनेक्ट किया जाता है। यह Keyboard सबसे ज्यादा उपयोग भी किया जाता है। क्योंकि यह दुसरे Keyboard के मुकाबले सस्ता होता है। (keyboard क्या है?)

Wireless Keyboard

keyboard क्या है?

बिना Wire वाले Keyboard को Wireless Keyboard कहा जाता है। इसे USB Recever के द्वारा Computer से कनेक्ट किया जाता है। यह Normal Keyboard के मुकाबले अधिक महंगा होता है। आसान भाष में कहे तो इसमें कोई भी वायर नहीं होती ये सिर्फ एक कीबोर्ड होता है.

Ergonomic Keyboard

keyboard क्या है?

यह विशेष प्रकार से Designed Keyboard होता है। इसे इस तरह Design किया गया होता है कि इससे Typing करने में आसानी होती है। जिससे अधिक Typing करने के बाद भी हाथ और अंगुलियों में दर्द नहीं होता है

keyboard के इतिहास (History of Keyboard)

हम जो कीबोर्ड का इस्तेमाल करते है वो कीबोर्ड पहले के typewriter के साथ ही बनाया गया था । क्रिस्टोफर लैथम शोल्स ने 1868 में QWERTY कीबोर्ड का अविष्कार किया और पेटेंट कराया। तब वह टाइपराइटर में प्रयोग की जाती थी।

समय के साथ कीबोर्ड का विकास हुआ और आज जो हम कीबोर्ड प्रयोग करते हैं उसका आधार वहीं है, बस आकार और तकनीकी में भले बदलाव किया गया है कंप्यूटर 1970 के दशक के बाद उपयोग करने के लिए लोकप्रिय होने लगे।

कीबोर्ड के बटन को कितने भागो में बाटा गया है?

कीबोर्ड के बटन को मुख्या रूप से 6 भागो में बाटा गया है जो इस प्रकार है

  1. Function Keys
  2. Typing Keys
  3. Navigation Keys
  4. Numeric Keys
  5. Indicator Light
  6. Special Purpose Keys

Function Keys

Keyboard के सबसे ऊपर वाले Row में उपस्थित 12 Keys को Function Keys कहते हैं। यह F1 से शुरू होकर F12 तक होता है। प्रत्येक Function Keys को बार बार किये जाने वाले कार्यो के लिए प्रोग्राम किया होता है। ताकि समय की बचत हो सके। जो इस प्रकार है:-

  • F1           Open Help Center
  • F2           Rename Files Or Folders
  • F3           Open Search In Browser Or Windows
  • Alt+F4   Shutdown Or Restart Computer
  • F5           Refresh
  • F6           Volume Down
  • F7           Volume Up
  • F8           Start Safe Mode
  • F9           Reduce Screen Brightness
  • F10         Increase Screen Brightness
  • F11         Open Or Close Full Screen Mode
  • F12         Save As

Typing Keys

इसमें  Alphabetical और Numerical दोनो तरह के Keys होते हैं। इसलिए इसे Alphanumerical Keys भी कहते हैं। Computer Keyboard में 26 Keys Alphabetical होते हैं। जिसमें Alphabet के 26 Letter (A to Z) होते हैं। जिसका उपयोग हम computer में कोई टेक्स्ट लिखने के लिए करते है।

Numerical Keys का प्रयोग Number या अंक लिखने के लिए किया जाता है। जिसमें 0 से 9 तक के अंक होते हैं। Typing Keys में Punctuation Marks और Symbol भी शामिल होते हैं। Typing करते वक्त इन Typing Keys का उपयोग सबसे अधिक होता है। 

Navigation Keys

इसका उपयोग कंप्यूटर स्क्रीन पर कर्सर को इधर से उधर काने के लिए किया जाता है । ये 4 Keys होते हैं। जिसमें चारों भिन्न-भिन्न दिशाओं में कर्सर को ले जाने में उपयोग होता है। जिसे समझने के लिए Arrow (तीर) के निशान से दर्शाया होता है।

इसलिए इसे Arrow Keys भी कहते हैं। इसमें कर्सर को नियंत्रित करने के लिए Arrow Keys के अलावा Home Keys, End Keys, Insert Keys, Delete Keys, Page Up और Page Down Keys होता है।

Numeric Keys

यह Keyboard के Right Side में होता है। इसका उपयोग Number या अंक Type करने में होता है। यह Calculator के समान होता है। इसपर 0 से 9 तक अंक तथा जोड़, घटाव, गुणा और भाग जैसी Calculator के Symbol होते हैं। इसलिए इसे Calculator Keys भी कहते हैं।

Indicator Light

Computer Keyboard में तीन तरह के Light होते हैं। जिसे Indicator Light कहा जाता है। Keyboard पर उपस्थित तीनों Light में से पहला Light Numerical Keys के On/OFF का संकेत देती है।

वहीं दुसरा Light Uppercase और Lowercase का संकेत तथा तीसरा Light Scrolling के बारे में संकेत देती है।

Special Purpose Keys

इन keys का उपयोग विशेष कार्यों को करने के लिए तैयार किया गया होता है। बहुत सारे Special Purpose Key एक Normal Keyboard पर होता है। इसमें से अधिकांश Keys का उपयोग किसी दुसरे Keys के साथ करते हैं। चलिए सभी Special Purpose Key को विस्तार से जानते हैं। (keyboard क्या है?)

Caps Lock Key

कंप्यूटर कीबोर्ड का यह बटन आपको कैपिटल और स्मॉल लेटर्स में स्विच करने का विकल्प देता है। इसे सक्रिय करने पर Keyboard के Alphabetical Keys, Capital Letter में लिखाता है।

जिसे Computer में Upper case बोला जाता है। इसे निष्क्रिय कर के लिखने पर Alphabetical Keys, Small Letter में लिखाता है। जिसे Computer में Lower case बोला जाता है।

Spacebar

कंप्यूटर कीबोर्ड का यह सबसे बड़ा बटन होता है जिसे आप टाइप करते समय शब्दों के बीच के थोड़ी जगह देते है

Enter बटन

किसी Document या Text लिखते वक्त नये Paragraph के लिए इसका उपयोग होता है। यह Key भी Computer कीबोर्ड के दो स्थानों पर होते हैं।

Tab Key

इसका संक्षिप्त नाम Tabulator Key है। यह कर्सर को एक जगह से दूसरे जगह यानी एक Tab से दुसरे Tab में ले जाता है।

बैकस्पेस (Backspace)

किसी भी डॉक्यूमेंट में या कार्य के मध्य में एक स्थान पीछे की ओर ले जाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। यह पीछे से डॉक्यूमेंट में वाक्यों को काम या डिलीट करने का भी कार्य करता है।

Escape

किसी कार्य को रोकने, प्रोग्राम छोड़ने या पिछले मेनू पर वापस जाने के लिए यह बटन उपयोग होता है। इस बटन को आमतौर पर ‘Esc’ के रूप में चिह्नित किया जाता है।

Delete

यह बटन वर्णों को हटाती/मिटाती है। इस बटन को कभी-कभी केवल डेल (Del) भी कहा जाता है। इससे Select जगह को भी मिटाया जा सकता है।

Scroll Lock Key

Scroll Lock Key Computer पर चल रहे प्रोग्राम या Text को अस्थायी रुप में एक ही स्थान पर रोक देता है। अगर आप दोबारा चलना चाहते है तो इसे एक बार press कर दे. (keyboard क्या है?)

Control

इस बटन का उपयोग विशेष कार्यों को करने के लिए अन्य बटनों के संयोजन से किया जाता है। इस बटन को आमतौर पर ‘Ctrl’ के रूप में जाना  जाता है।

Keyboard का आविष्कार किसने किया और कब (keyboard inventor)

Keyboard का अविष्कार Christopher Soles ने वर्ष 1868 में किया था.

Keyboard को हिंदी में क्या कहते हैं?

Keyboard को हिंदी में कुंजीपटल कहते हैं

Computer में Keyboard का क्या काम है?

Computer में Keyboard का काम Input करना होता है।

Keyboard में कितने बटन होते हैं?

एक नार्मल Keyboard में 104 या 108 होते है

Keyboard हार्डवेयर है या सॉफ्टवेयर? (Is Computer hardware)

keyboard एक प्रकार का हार्डवेयर डिवाइस है

keyboard का दूसरा नाम क्या है?

keyboard का दूसरा नाम कुंजीपटल है.

आपने क्या सीखा

अगर अपने इस आर्टिकल को अच्छे पढ़ा होगा तो मुझे यकीन है आप ये समझ गए होंगे की Keyboard क्या है? और इसके कितने प्रकार है? keyboard के परिभाष keyboard के क्या कार्य है?

मेरा आप सब से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, इससे सबको जानकारी मिलेगी और सब जागरूक होंगे

यदि आपके मन में इस Article को लेकर कोई भी प्रकार का Doubts हैं या आप चाहते हैं की इस आर्टिकल में कुछ सुधार होनी चाहिए या इसके बारे में और लिखा जा सकता है तो आप नीच Comments लिख सकते हैं.
धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.